रुश्दी के फतवे के 30 साल बाद ब्रिटेन दोबारा इसपर गौर कर रहा है

रुश्दी के फतवे के 30 साल बाद ब्रिटेन दोबारा इसपर गौर कर रहा है

14 फरवरी 1989 को ईरान के अयातुल्ला खुमैनी ने ‘द सैटनिक वर्सेज’ नामक पुस्तक को लेकर रूश्दी के खिलाफ फतवा जारी किया गया था। वाइकिंग पेंगुइन द्वारा यूके में 1988 में प्रकाशित पुस्तक को लेकर उन लोगों द्वारा व्यापक विरोध का सामना किया गया था, जिन्होंने रुश्दी पर ईशनिंदा और अविश्वास का आरोप लगाया था। लेखक के सिर पर 6 मिलियन डॉलर के इनाम रखा गया था जिसकी वजह से उन्हें ब्रिटिश सरकार के संरक्षण कार्यक्रम के तहत 24 घंटे सशस्त्र गार्ड की सुरक्षा पर देखा गया था।

इस पुस्तक को जल्द ही बांग्लादेश से वेनेजुएला तक कई देशों में प्रतिबंधित कर दिया गया था, और इसके प्रकाशन के विरोध में कई लोगों की मृत्यु हो गई थी जिसमें 24 फरवरी को जब भारत के बॉम्बे में एक दंगे में 12 लोगों की जान चली गई थी वो भी इसमें शामिल थे। लिबर्टी के डिपार्टमेंटल स्टोर सहित पूरे ब्रिटेन में विस्फोट हो गए, जिसमें पेंगुइन बुक शॉप और न्यूयॉर्क में पेंगुइन स्टोर शामिल था।

बार्न्स और नोबल सहित बुक स्टोर चेन ने किताब बेचना बंद कर दिया और ब्रिटेन भर में प्रतियां जला दी गईं थी, पहले बोल्टन में जहां 7,000 मुस्लिंस 2 दिसंबर 1988 को एकत्र हुए, फिर ब्रैडफोर्ड में जनवरी 1989 में। मई 1989 में 15,000 से 20,000 लोग संसद में एकत्र हुए। लंदन स्क्वायर में रुशदी के पुतले जलाने के लिए लोग इकठ्ठा हुए थे।

अक्टूबर 1993 में, नॉर्वेजियन के प्रकाशक विलियम न्यागार्ड को ओस्लो में अपने घर के बाहर गोली मार दी गई थी और वे गंभीर रूप से घायल हो गए थे। रुश्दी नौ साल बाद छुपकर बाहर आया था, लेकिन हाल ही में फरवरी 2016 तक, फतवे के तहत रकम में बढ़ोतरी के मकसद से के लिए पैसे जुटाए गए हैं, जिससे लेखक को याद दिलाया जा सकता है कि कई अयातुल्ला का शासन अभी भी खड़ा है।

इधर, 30 साल बाद सेंसरशिप पत्रिका पर सूचकांक पहले से अपने अभिलेखागार से प्रमुख लेख पर प्रकाश डालता है, फतवा जारी करने के दौरान और बाद में, यूरोप के सर्वोच्च संस्थान अब ईशनिंदा और धार्मिक अपराध के खिलाफ कानूनों की पुष्टि करने की संभावना रखते हैं क्योंकि वे उन्हें उलट देना चाहते हैं।



from The Siasat Daily http://bit.ly/2I8cll0