तुर्की इजरायल आमने-सामने, एर्दोगन ने कहा- ‘फलस्तीन मसले पर खामोश नहीं बैढ़ सकता’

तुर्की इजरायल आमने-सामने, एर्दोगन ने कहा- ‘फलस्तीन मसले पर खामोश नहीं बैढ़ सकता’

तुर्की के राष्ट्रपति एर्दोगन ने बहुत बड़ी बात कह दी है। एकबार फिर इजरायल को चेतावनी देते हुए कहा कि फलस्तीन और फलस्‍तीनीयों के हक़ को लेकर खामोश नहीं रह सकता हूं।

तुर्की ने इस्राईल की ओर से फ़िलिस्तीन के पश्चिमी किनारे के क्षेत्र में काम करने वाले अंतर्राष्ट्रीय मानिट्रिंग ग्रुप को काम जारी रखने की अनुमति न देने के फ़ैसले की कड़े शब्दों में निंदा की है।

तुर्की के विदेशमंत्री ने एक बयान जारी करके कहा कि हम इस्राईल की ओर से हेब्रून में टेम्प्रेरी इन्टरनेश्नल प्रिज़िनिस (टीआईपीएच) के काम में रुकावट डालने की कार्यवाही की कड़े शब्दो में निंदा की है और इस राजनैतिक फ़ैसले को बदलने की मांग की है।

फ़्रांसीसी समाचार एजेन्सी एएफ़पी की रिपोर्ट के अनुसार टीआईपीएच नामक अंतर्राष्ट्रीय निरिक्षण की संस्था फ़िलिस्तीन में रक्तपात के बाद 1994 में स्थापित की गयी थी।

पिछले सोमवार को इस्राईली प्रधानमंत्री बिनयामीन नितिनयाहू नेक हा कि वह उक्त ग्रुप को द्वेषपूर्ण रवैये के कारण और अधिक काम की अनुमति नहीं देंगे, दूसरी ओर तुर्की ने इस्राईली प्रधानमंत्री के दावों का खंडन किया है।

इस्राईली कार्यवाही के बाद तुर्की की सत्तासीन पार्टी के प्रवक्ता ने ट्वीट किया कि हम इन आरोपों का खंडन करते हैं जिनमें कहा गया है कि टीआईपीएच इस्राईल के विरुद्ध काम कर रहा है, इस आरोप को इस्राईल ने अपने फ़ैसले के औचित्य के लिए पेश किया।

पार्स टुडे डॉट कॉम के अनुसार, उन्होंने इस्राईली फ़ैसले की आलोचना करते हुए उन्हें क़ानून के विरुद्ध और निंदनीय क़रार दिया है।

उनका कहना था कि इस्राईल की यह कार्यवाही बता रही है कि वह क्षेत्र पर और अधिक अतिक्रमण करने का इरादा कर चुका है और साथ ही विश्व समुदाय को हेब्रून की स्थिति के हवाले से सचेत भी किया। ज्ञात रहे कि हेब्रून में फ़िलिस्तीनियों की सुरक्षा को सुनिश्चित बनाने के लिए नार्वे की टीम के नेतृत्व में तुर्की के निरिक्षक यहां मौजूद हैं।



from The Siasat Daily http://bit.ly/2WBxY0t