खाड़ी देशों में आतंकवाद का मुख्य कारण इजरायल और अमेरिका- हसन रुहानी

खाड़ी देशों में आतंकवाद का मुख्य कारण इजरायल और अमेरिका- हसन रुहानी

इस्लामी गणतंत्र ईरान के राष्ट्रपति डाक्टर हसन रूहानी ने गुरुवार को तेहरान में रूस के दौरे पर रवाना होने से पहले पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि वह अपने रूस के दौरे में रूसी और तुर्क समकक्षों के साथ वार्ता करेंगे।

पार्स टुडे डॉट कॉम के अनुसार, राष्ट्रपति डाक्टर हसन रूहानी ने देश के दक्षिणपूर्वी क्षेत्र में आतंकवादियों की हालिया कार्यवाहियों को दुश्मनों की बेबसी क़रार देते हुए कहा कि क्षेत्र में आतंकवाद का मुख्य जड़ अमरीका और ज़ायोनिज़्म है।

राष्ट्रपति डाक्टर हसन रूहानी ने आईआरजीसी के जवानों पर आतंकवादियों के क्रूर हमले को दुश्मनों की बेबसी की इन्तेहा क़रार देते हुए कहा कि दुर्भाग्य से कुछ देश भी क्षेत्र में अमरीका और अतिग्रहणकारी ज़ायोनी शासन के आतंकवाद का समर्थन रहे हैं।

राष्ट्रपति डाक्टर हसन रूहानी ने आईआरजीसी की बस पर होने वाले आत्मघाती आतंकी हमले के शहीदों के परिजनों विशेषकर वरिष्ठनेता और सशस्त्र सेना को सांत्वना पेश की। उन्होंने कहा कि दुश्मनों की ओर से ईरानी राष्ट्र के विरुद्ध एसी शैतानी साज़िश न केवल विफल होगी बल्कि हमारा इरादा और अधिक मज़बूत होगा।

डाक्टर हसन रूहानी ने कुछ पड़ोसी देशों से मांग की है कि वह अपनी ज़िम्मेदारी पूरी करें और आतंकवाद को अपनी धरती दूसरे पड़ोसी देशों के विरुद्ध प्रयोग करने की अनुमति न दें।

राष्ट्रपति डाक्टर हसन रूहानी ने अपने रूस के दौरे की ओर इशारा करते हुए कहा कि वह रूसी और तुर्क राष्ट्रपतियों के साथ चौथी बैठक में भाग लेने के लिए सूची जा रहे हैं जहां वह आस्ताना शांति प्रक्रिया के अंतर्गत सीरिया में शांति की स्थापना और वार्ता के बारे में विचार विमर्श करेंगे।

ज्ञात रहे कि बुधवार की शाम ज़ाहेदान-ख़ाश राजमार्ग पर आईआरजीसी की एक बस पर तकफ़ीरी आतंकवादी गुट जैशुज़्ज़ुल्म ने आत्मघाती आतंकी हमला किया जिसके परिणाम में 27 जवान शहीद और 13 अन्य घायल हो गये।



from The Siasat Daily http://bit.ly/2GnvsGh