फलस्‍तीनीयों पर इजरायल का जुल्म मुस्लिम देश की सह तो नहीं?

फलस्‍तीनीयों पर इजरायल का जुल्म मुस्लिम देश की सह तो नहीं?

ज़ायोनी शासन के टेलिविज़न चैनेल ने स्पष्ट किया है कि नेतनयाहू और संयुक्त अरब इमारात के युवराज के बीच कई बार संपर्क हुआ है। इस्राईल के टेलिविज़न चैनेल-13 के अनुसार ईरान तथा गुट पाचं धन एक के बीच परमाणु समझौते पर हस्ताक्षर के बाद इस्राईल के प्रधानमंत्री नेतनयाहू ने संयुक्त अरब इमारात के युवराज मुहम्मद बिन ज़ाएद के साथ कई बार संपर्क किये हैं।

पार्स टुडे डॉट कॉम के अनुसार, यह संपर्क परमाणु समझौते के संदर्भ में दोनों पक्षों की नीतियों को समन्वित करने के उद्देशय से किये गए। इस्राईल के टेलिविज़न चैनेल-13 के अनुसार नेतनयाहू और मुहम्मद बिन ज़ाएद के बीच हुए संपर्क के आधार पर ज़ायोनी शासन के प्रधानमंत्री लेबर पार्टी के नेता यसतहक़ाद को इस बात के लिए निर्धारित करेंगे कि क्षेत्र के बारे में इस्राईल की नीतियों को लागू करने के उद्देश्य से अरब देशों के साथ वार्ता करेंगे।

इससे पहले ज़ायोनी समाचारपत्र हआरेत्ज़ ने अपनी एक रिपोर्ट में लिखा था इस्राईल की ओर से क्षेत्र के बारे में उसकी योजना लागू होने की स्थति में कि फ़ार्स की खाड़ी के दक्षिणी तट के अरब देश इस बात के लिए तैयार थे कि उसपर हस्ताक्षर कर दें। ज्ञात रहे कि अवैध ज़ायोनी शासन के प्रधानमंत्री नेतनयाहू कुछ अरब देशों के साथ छिपकर या खुलकर संपर्क बना चुके हैं।



from The Siasat Daily http://bit.ly/2UUjirk