न्यूज़ीलैंड मस्जिदों पर हमला: इस खतरनाक गोरे आतंकी के बारे में जाने!

न्यूज़ीलैंड मस्जिदों पर हमला: इस खतरनाक गोरे आतंकी के बारे में जाने!

न्यूज़ीलैंड की दो मस्जिदों पर हुए आतंकवादी हमले के बाद मुस्लिम-अमरीकी नागरिक अधिकारों के एक संगठन ने कहा है कि श्वेत वर्चस्ववादी विचारधारा में अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर वृद्धि के बीच अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प ने इस्लामोफ़ोबिया को सामान्य बनाने में मुख्य भूमिका निभाई है।

शुक्रवार को न्यूज़ीलैंड के क्राइस्टचर्च में नमाज़ियों पर गोलियां बरसाने वाले आतंकवादी ने एक संदेश में अप्रवासियों को हमलावर बताया था और गोरों की पहचान को पुनर्जीवित करने के लिए ट्रम्प की प्रशंसा की थी।

पार्स टुडे डॉट कॉम के अनुसार, 28 वर्षीय ऑस्ट्रेलियाई हमलावर ने निर्दोष नमाज़ियों पर फ़ायरिंग करके 50 से ज़्यादा को मौत के घाट उतार दिया, जिसमें बच्चें और महिलाएं भी शामिल हैं।

अमरीकी-इस्लामी संबंधों की परिषद सीएआईआर के कार्यकारी निदेशक निहद अवद ने अमरीकी राष्ट्रपति की इस्लाम विरोधी नीतियों की आलोचना करते हुए कहा, एक आज़ाद दुनिया के नेता के रूप में ट्रम्प की नीतियों और बयानों ने अमरीका के बाहर भी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर लोगों को प्रभावित किया है।

शुक्रवार को वाशिंगटन में एक प्रेस कांफ़्रेंस को संबोधित करते हुए अवद ने कहा, अमरीका में मुसलमानों पर हमला करने वाले अधिकांश हमलावरों ने ट्रम्प की और ट्रम्प की नीतियों की प्रशंसा की थी।

उन्होंने कहा, वह जो कुछ कहते हैं और करते हैं उसका लोगों पर क्या असर होता है, हमें उस पर आश्चर्य नहीं होना चाहिए। मानवाधिकार कार्यकर्ता और संगठन ट्रम्प पर अपने बयानों और नीतियों से मुसलमानों के ख़िलाफ़ असहिष्णुता बढ़ाने का आरोप लगाते रहे हैं।

2015 में राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के रूप में मुसलमानों के अमरीका में प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने का वादा किया था, बाद में राष्ट्रपति बनने पर ट्रम्प ने कई मुस्लिम देशों के नागरिकों पर अमरीका में प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया था।

2016 में सीएनएन को इंटरव्यू देते हुए ट्रम्प ने कहा था, मैं समझता हूं कि इस्लाम हमसे नफ़रत करता है। न्यूज़ीलैंड में आतंकवादी हमलावर को इस बात का ग़ुस्सा था कि अप्रवासियों ने यूरोपीय संस्कृति को ख़राब करके रख दिया है।

अमरीकी राष्ट्रपति ने भी हालिया वर्षों में इसी तरह की बातें कई बार दोहराई हैं। पिछले साल ट्रम्प ने कहा था, मैं समझता हूं कि इससे संस्कृति में बदलाव आ रहा है, मैं समझता हूं कि यह यूरोप के लिए बहुत ख़राब चीज़ है।



from The Siasat Daily https://ift.tt/2W6lkFv